Tuesday, June 29, 2010

शिर्डी यात्रा

हुआ दर्शन तेरा, खुले मेरे भाग्य के द्वार ।
शिर्डी वाले बाबा, तेरी महिमा अपरमपार ॥

जो जाता, तेरे गुण गाता, पाता तेरा प्यार ।
ना कोई भेद-भाव वहाँ, अनूठा तेरा संसार ॥

बहुत दिन हो गये, थोड़ा व्यस्त हो गया था, ज़िन्दगी के भाग दौड़ में । तबियत अभी ठीक है ।
पिछ्ले शनिवार को मैं शिर्डी गया था परिवार के साथ । साथ मे हमारे एक अच्छे मित्र और उनका परिवार भी था । पहली बार मैं खुद गाड़ी चलाकर गया और अगले दिन लौटा । सफर बहुत अच्छा रहा । मौसम सुहावना था । दर्शन भी अच्छे से हो गये । हाँ, थोड़ी भीड़ जरूर थी पर अच्छा लगा । पिछले महीने भी गया था, फिर जाने का मन किया, सो चल दिया । बाबा के दर्शन के बाद जो ख्याल आया वो ऊपर बयां किया । उम्मीद है, इश्वर का आशिर्वाद और आप सबका प्यार यूँ ही मिलता रहेगा ।

6 comments:

  1. श्रद्धा को प्रणाम ।

    ReplyDelete
  2. ईश्वर की कृपा बनी रहे.

    ReplyDelete
  3. baba kee moortee me itne shant bhav hai ki dekhate hee shanti sancharit hotee hai .
    swasthy ka dhyan rakhiyega.....
    shubhkamnae .

    ReplyDelete
  4. khushnaseeb hain aap jo aapko darshan karne ka mauka mila.

    ReplyDelete
  5. Saai Baba ka mandir,waaqayi ek aisa sthan hai,jahan koyi bhedbhav nahi.
    Anek shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  6. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this website to increase visitor.Happy Blogging!!!

    ReplyDelete