Tuesday, January 12, 2010

एक सवाल ख़ुदा से

तेरे जहाँ में , ए ख़ुदा , ऐसा घर भी है कहीं?
की जिसमे, ग़म के कदमो की आहट न हो !
तेरे जहाँ में, ए ख़ुदा, ऐसी निगाहे भी है कहीं ?
की जिसमे, अश्को का सैलाब न हो !
तेरे चमन में , ए ख़ुदा , ऐसी कली भी है कहीं ?
की जिसके दामन में एक काँटा न हो?
तेरे दिए हुए हर सांस में , एक पल भी है कहीं ?
की जिस पर मौत का साया न हो ?
तेरे बनाये हुए दिल में , ऐसा है क्यों नहीं ?
की नफरत के लिए जिसमे जगह न हो !
ऐसा है क्यों नहीं ?
ऐसा है क्यों नहीं ?

8 comments:

  1. स्वागत है ब्लागजगत में , बहुत सुंदर ,सार्थक और सामयिक रचना

    ReplyDelete
  2. सुन्दर कविता बधाई ।

    ReplyDelete
  3. बहुत बढिया निशब्द हो गया मै

    ReplyDelete
  4. अच्छी रचना है ........ पर आप देखिए उसकिनगरी में फूल भी हैं, काँटे भी, खुशी है तो गम भी सब कुछ दिया है उसने तो .... हर किसी के लिए ........

    ReplyDelete
  5. bahut sundar lekhni chala lete hai aap ....
    badhaai ...

    ReplyDelete
  6. sab kuch hai yanha sawal ye bhee hai ki aapkee nigah kanha jatee hai kanha atakatee hai aur ulajh rah jatee hai.......

    ReplyDelete
  7. maine aapki sabhi rachnaye deki ek se badh kar ek..........
    maja aa gya.......
    behtreen.............

    ReplyDelete